sainik schol rosera samastipur saraswati devi mandir

समस्तीपुर में सैनिक स्कूल खुलेगा

रक्षा मंत्रालय ने निजी स्कूलों के साथ सहभागिता में 21 सैनिक स्कूलों की स्थापना को मंजूरी दी है। ये स्कूल इसी वर्ष मई से शुरू होंगे। बिहार के समस्तीपुर, यूपी, उत्तराखंड व हरियाणा में एक-एक नए स्कूल खुलेंगे। सरकार ने बजट भाषण में निजी भागीदारी में सौ सैनिक स्कूल खोलने की घोषणा की थी।

जिन 21 स्कूलों को मंजूरी मिली है उनमें 17 पहले से चल रहे हैं। यानी उन्हें सैनिक  के र���प में बदला जाए 12 स्कूल एनजीओ, ट्रस्ट व सोसायटी द्वारा संचालित होंगे। छह निजी स्कूलों द्���ारा व तीन राज्य सरकारों द्वारा खोले जाएंगे। इनमें सात में डे केयर की  होगी। शेष में आवासीय व्यवस्था भी होगी। नए स्कूलों में समस्तीपुर में सुंदरी देवी सरस्वती विद्या मंदिर , यूपी के इटावा में विकास लोक सेवा समिति का स्कूल, देहरादून में जीआरडी वर्ल्ड स्कूल भौवाला व हरियाणा के फतेहाबाद में ओम विष्णु एजुकेशन सोसायटी का स्कूल सैनिक स्कूल के रूप में स्थापित होंगे.

शानदार रही है विद्यालय की उपलब्धियां

सुंदरी देवी सरस्वती विद्या मंदिर की शिक्षा व्यवस्था व शिक्षकों की विद्वता व कर्मठता की बदौलत छात्र-छात्राओं का मैट्रिक व इंटर की परीक्षा परिणाम में बेहतर प्रदर्शन रहा है। यहां से इंटर पास छात्र-छात्राओं ने जेईई व नीट आदि में भी बेहतर प्रदर्शन कर मुकाम हासिल किया है। यहां के कई छात्र इसरो में साइंटिस्ट हैं तो कई विदेशों में अपना परचम लहरा रहे हैं। इसी विद्यालय का छात्र त्रिपुरारि मुम्बई में रहकर ना केवल युवा शायर बल्कि गीतकार और कवि के रूप में भी पहचान बनाई है। दिल्ली व महाराष्ट्र के स्कूल के पाठ्यक्रम में उसकी रचना भी शामिल है।

विद्यालय बेहतर शिक्षा व कुशल अनुशासन के लिए इस क्षेत्र में चर्चित है।

स्कूल का ट्रस्ट और विद्या भारती करती है संचालन

स्कूल का संचालन रामकृष्ण एजुकेशन ट्रस्ट व विद्या भारती बिहार की समिति करती है। विद्या भारती के पदाधिकारी समिति के सचिव और ट्रस्ट के सदस्य अध्यक्ष होते हैं। वर्तमान में विनोद कुमार इस समिति के अध्यक्ष हैं। समिति में 11 सदस्य शामिल हैं।

डॉ.रामस्वरूप महतो का सपना साकार हुआ है उन्होंने पिछड़े इला���े में शिक्��ा ��े प्रसार व बेहतर शिक्षा के उद्देश्य से स्कूल की स्थापना की थी उसमें स्कूल को सफलता मिली है। -विनोद कुमार, अध्यक्ष, सुंदरी देवी सरस्वती विद्या मंदिर, बटहा।

रोसड़ा के बटहा गांव स्थित सुंदरी देवी सरस्वती विद्या मंदिर जल्द ही सैनिक स्कूल के रूप में तब्दील होगा। केन्द्र सरकार ने इसे सैनिक स्कूल के रूप में बदलने का निर्णय लिया है। जानकारी मिलते ही रोसड़ा के लोगों में खुशी की लहर दौड़ गयी है। वे इसे अपने लिए केन्द्र सरकार का तोहफा मान रहे हैं। 12 एकड़ के विशाल भूखंड में फैले सुंदरी देवी सरस्वती विद्या मंदिर की स्थापना 1998 में बटहा निवासी स्वर्गीय डॉ. रामस्वरूप महतो ने की थी । डॉ. महतो इंग्लैंड में चिकित्सक थे, लेकिन विदेश में रहने के बावजूद अपनी मिट्टी से काफी लगाव रखते थे।

इसी कारण उन्होंने अपनी सारी कमाई एक ऐसे विद्यालय की स्थापना में लगा दी, जो सूबे में एक अलग पहचान बना सके। आरएसएस की विचारधारा से प्रभावित होने के कारण स्कूल की स्थापना के लिए उन्होंने आरएसएस संचालित विद्या भारती के पदाधिकारियों से सलाह मशविरा के बाद इस विद्यालय की स्थापना की। स्थापना के बाद यह विद्यालय लगातार प्रगति के पथ पर अग्रसर रहा। स्कूल का कैंपस 12 एकड़ में फैला है। इस विशाल भूखंड में विद्यालय का विशाल भवन, आलीशान ऑडिटोरियम व छात्र-छात्राओं का रम्य छात्रावास भी है। स्कूल में प्रयोगशाला व पुस्तकालय भी है। पेड़-पौधों व फूलों से आच्छादित विद्यालय का विशाल परिसर प्रकृति के अनुपम छंटा बिखेरती नजर आती है। विद्यालय में फिलहाल करीब 1250 छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं। 40 शिक्षक व 75 शिक्षकेत्तर कर्मी सेवारत हैं। विद्यालय को सीबीएसई बोर्ड से प्लस टू तक की मान्यता मिली हुई है।

12 एकड़ में फैला है सुंदरी देवी सरस्वती विद्या का कैंपस

Sundari Devi Sarswati vidya mandir aims to create a supportive and inclusive environment where gifted and talented students are encouraged to explore their potential and achieve their personal best in all aspects of school life. Students will be challenged and engaged through authentic learning opportunities that inspire them to develop creativity, confidence and resilience to become independent and ethical life-long learners. Dewanand Durdarshi, Principal, Sundari Devi Saraswati Vidya Mandir, Bataha.

  • Ai and Objective of the Institution:
  • committed to Hindutva and infused with patriotic fervor.
  •  Fully developed physically, vitally, mentally and spiritually.
  •  Capable of successfully facing challenges of day to day life-situations.
  •  Dedicated to the service of our those brothers and sisters who live in villages, forests, caves and slums and are deprived and destitute, so that they are liberated from the shackles of social evils and injustice.
  •  Thus devoted, may contribute to building up a harmonious, prosperous and culturally rich Nation.

Its website is ; https://sdsvmbataha.org/

admission in sainik school samastipur 2 admission in sainik school samastipur sundari devi saraswati vidya mandir samastipur sainik school admission sainik schol rosera samastipur saraswati devi mandir

Was this helpful?

1 / 0

Leave a Reply

Gaurav kumar

Gaurav kumar

Most school in my life

%d bloggers like this: